Hocky Tournament: जंगलों और पहाड़ों के बीच बसे जिलिंगा में आयोजित स्व. फुलजेंस तिर्की मेमोरियल हॉकी प्रतियोगिता की विजेता बनी ताराबोगा दीपाटोली की टीम

हॉकी सिमडेगा के अध्यक्ष मनोज कोनबेगी और जिप सदस्य पाकरताड़ जोसिमा खाखा विजेता उपविजेता टीमों को पुरुस्कार देकर सम्मानित किया

सिमडेगा जिला के ठेठाईटांगर प्रखंड अंतर्गत जंगलों पहाड़ों के बीच बसे जिलिंगा गांव में आयोजित स्वर्गीय फुलजेंस तिर्की मेमोरियल हॉकी प्रतियोगिता सह आदिवासी सांस्कृतिक नाच प्रतियोगिता का कार्यक्रम किया गया। जिसमें आज खेले गए फाइनल मैच में ताराबोगा दीपाटोली की टीम ने सहजबहाल उड़ीसा की टीम को 2-1 से पराजित कर विजेता बना। पहली बार आयोजित इस प्रतियोगिता में झारखंड के 16 तथा उड़ीसा के 02टीम मिलाकर कुल 18 टीमों ने भाग लिया ।जिसकी शुरुआत 13 सितंबर को ही की गई थी। इस गांव में खेल मैदान नहीं होने के कारण आयोजन समिति की ओर से एक निजी जमीन को भाड़े में लेकर इस प्रतियोगिता की शुरुआत की गई और यहां हॉकी को बढ़ावा देने का संकल्प लिया गया। खेत की आड़ी से पैदल चलते हुए फाइनल मैच के सभी अतिथि खेल मैदान तक पहुंचे। फाइनल मैच में अतिथि के रूप में हॉकी सिमडेगा का अध्यक्ष मनोज कोणबेगी, जिप सदस्य पाकरताड़ सह सिमडेगा के विधायक भूषण बड़ा की धर्मपत्नी जोशीमा खाखा, ठेठाईटांगर पश्चिमी क्षेत्र के जिप सदस्य अजय एक्का,बांसजोर प्रखंड के जिप सदस्य समरोन कांडूलना, ठठाईटांगर प्रखंड के प्रमुख बिपिन मिंज, हॉकी सिमडेगा के वेद प्रकाश,एवम अन्य अतिथियों ने खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर फाइनल मैच की शुरुआत की तथा मैच समाप्ति के उपरांत विजेता उपविजेता टीमों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया। खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए हॉकी सिमडेगा के अध्यक्ष मनोज ने कहा कि सुदूरवरती इलाके में आप लोगों के द्वारा इस तरह हॉकी को बढ़ाने के लिए खेल प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है जिसका हॉकी सिमडेगा कोटि-कोटि आभार व्यक्त करता है। साथ ही आने वाले दिनों में भी इस प्रतियोगिता को जारी रखें हॉकी सिमडेगा यथा संभव सहयोग करेगा। साथ ही साथ जिला स्तर पर जो भी खेल प्रशिक्षण केंद्र के प्रशिक्षण के लिए किसी भी टीम के गठन के लिए जब ट्रायल होता है तो उसमें इस इलाके खिलाड़ियों को जरूर से जरूर भाग लेना चाहिए और किसी भी ट्रायल के लिए पंचायत द्वारा निर्गत जन्म प्रमाण पत्र की अति आवश्यकता होती है इसलिए मेरा अभिभावकों से अनुरोध होगा कि अपने बच्चों का जन्म प्रमाण पत्र जरूर बनवा लें साथ ही उन्होंने कहा कि पहले गांव के छोटे-छोटे मैदानों या खाली पड़े खेत खलियान में बच्चे प्रत्येक शाम को हॉकी खेलते थे लेकिन अब पहले के अपेक्षा थोड़ा कम है उसे पुनः बरकरार करना है हॉकी सिमडेगा जिले में छुपी हुई हर प्रतिभा को सामने लाने का कार्य लगातार कर रही है। इस इलाके के कई खिलाड़ी अभी जिला मुख्यालय में रहकर हॉकी सिमडेगा के माध्यम से प्रत्येक दिन अभ्यास कर रहे हैं और राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में झारखंड टीम का भी प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। जिप सदस्य जोसीमा ने खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए कहा कि झारखंड सरकार लगातार खिलाड़ियों को आगे बढ़ाने के लिए कार्य कर रही है हमारे विधायक भूषण बाड़ा भी हर सत्र में हॉकी के विकास के लिए अपनी बात रख रहे हैं ,हॉकी सिमडेगा के पदाधिकारी भी लगातार हॉकी को आगे बढ़ाने के लिए कई कार्यक्रमों का आयोजन कर रहे हैं जिस अवसर का आपलोग लाभ ले। इसी तरह आप लोग भी खेल को बढ़ावा देने के लिए कार्य करें आपके इलाके के खिलाड़ी भी राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर तक पहुंचेंगे । सिमडेगा की पहचान हॉकी से है और हॉकी के माध्यम से ही कई लोगों को रोजगार मिल रही है लेकिन उस जगह तक पहुंचने के लिए आपको मैदान में पसीना बहाना होगा। प्रतियोगिता को आयोजन कराने में मुख्य रूप से आयोजन समिति के अध्यक्ष अमृत चिराग तिर्की, अनमोल तिर्की,अभिषेक तिर्की, अनूप तिर्की सहित जीलिंगा गांव के युवाओं की प्रमुख भूमिका रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!