शहर से 20 किलोमीटर दूर हरियाली से घिरा माराशिली पहाड़, चाेटी पर मौजूद है प्राचीन शिवलोक धाम, 8 कुंड और गुफा

रांची से करीब 15 किलोमीटर दूर रामपुर बजार से लगभग 4 किलोमीटर के अंदर जाने पर राजा उलातू पंचायत का उनिडीह गांव है। इसी गांव के पास मौजूद है माराशिली पहाड़ जो इन दिनों शहर के युवाओं के खास हैंगआउट जोन में शामिल हाे गया है। माराशिली पहाड़ 230 एकड़ में फैला हुआ है। यह एक तरफ से खेतों से तो एक तरफ से घने पेड़ों से घिरा हुआ है। इसकी चाेटी पर एक प्राचीन मंदिर मौजूद है जो शिवलोक धाम के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर की जो दीवार हैं वह लगभग 4 फीट चाैड़ा है। मंदिर के अलावा इस पहाड़ में 8 छोटे-बड़े कुंड हैं। यहां जो सबसे बड़ा कुंड है उसके बारे में स्थानीय लोगों ने बताया कि आज तक इस कुंड का पानी कभी नहीं सुखा है। एक बार इसकी गहराई को नापने के लिए इसमें सात खटिया का रस्सी भी डाला गया लेकिन गहराई का पता नहीं चल पाया। इसके अलावा इसमें एक गुफा भी है।

प्रचलित है कई कथाएं
यहां मौजूद मंदिर को लेकर कई कथाएं प्रचलित हैं। स्थानीय लोग बताते हैं कि एक बार महर्षि बाल्मीकी यहां से गुजर रहे थे। यहां रूक कर तप करने लगे, राम राम का जप कर रहे थे। लोगों को लगा मरा-मरा बोल रहे हैं। उसी समय से इस पहाड़ काे माराशिली कहा जाने लगा। इसके अलावा भी इस पहाड़ व मंदिर से जुड़ी कई कथाएं प्रचलित हैं।

एक गुफा है मौजूद
पहाड़ के दाहिने ओर एक गुफा मौजूद है। इसकी लंबाई 12 फीट, चौड़ाई 8 फीट व उंचाई लगभग 8 से 10 फीट है। यहां का वातावरण गर्मी के मौसम में ठंढ व ठंढ के मौसम में गरम रहता है।

रखें ध्यान

माराशिली पहाड़ की बनावट इस तरह है कि बाइक व कार उपर तक चला जाता है। लेकिन उपर जाने के लिए कोई पक्का रास्ता नहीं है, इसलिए गाड़ी लेकर उपर जाने में खतरा हो सकता है। जो कुंड है वह बहुत गहरा है इसलिए जिसे तैरना नहीं आता हो वह पानी में न उतरें। बाइके से उपर जा रहे हों तो किसी प्रकार का स्टंट न करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!